लोकवाणी

मुख़्तलिफ़ आवाज़, निगाह और विचार

Abhishek Srivastava

मेरे आसपास आजकल बहुत कुछ घट रहा है

मेरे आसपास आजकल बहुत कुछ घट रहा है और बहुत तेजी से कुछ दोस्तों ने मुखौटे बदल लिए हैं कुछ दुश्मनों ने चेहरे। एक बस है जो लगता है छूटने वाली है एक और बस है ठसाठस भरी हुई उसका…