लोकवाणी

मुख़्तलिफ़ आवाज़, निगाह और विचार

Deepak Manaash

यह कैसा बजट! सौ में से आधा पैसा भी शिक्षा के लिए नहीं..

यूं तो शीर्षक ही सारी कहानी बयां कर देता है और इस सरकार की मंशा भी। अशिक्षित और ग़ैर जागरुक समाज पर कितनी आसानी से राज किया जा सकता है, यह बात हमारे देस के राजनेताओं और सरकारों से छुपी…