लोकवाणी

मुख़्तलिफ़ आवाज़, निगाह और विचार

Susheel Manav

धनतंत्र में तब्दील होता लोकतंत्र: क्या हमारी संसद करोड़पति सांसदों का क्लब बन गई है?

आम लोगों में ये एक आम धारणा है कि सामान्य आदमी के लिए चुनाव नहीं होता। कोई हिम्मत हिमाकत करके लड़ भी ले तो चुनाव जीतना तो दूर वो अपनी जमानत तक नहीं बचा सकता। अमूमन गांव पंचायत के चुनावों…