लोकवाणी

मुख़्तलिफ़ आवाज़, निगाह और विचार

इतिहास राजनीति समाज

भगत सिंह: हिंदुस्तानी इंक़लाब में समाजवाद का बीज बोने वाला शख्स

“क्रांति प्रयास के इस विकास मार्ग में भगत सिंह एक ऐसे व्यक्ति थे जिसे अंग्रेज़ी में मोड़-सूचक, पाषाण-चिन्ह कहा जाता है.
समय और समाज की आवश्यकताओं ने भगत सिंह को ही माध्यम बनाकर उत्तर भारत के संगठित गुप्त सशस्त्र क्रांतिकारियों को समाजवाद की ओर उन्मुख कर दिया तथा क्रांतिकारी कार्यकलाप को धार्मिक मनोभूमि से ऊपर उठाया. उत्तर भारत का गुप्त क्रांतिकारी प्रयास तब तक इटली के मैजिनी, गैरीबाल्डी और आयरलैंड के सिनफिन के मध्यम वर्गीय नेताओं के आदर्श से अनुप्राणित था और भगत सिंह के माध्यम से ही उसने रूसी क्रांति और लेनिन, स्टालिन के समाजवादी आदर्शों के प्रभाव को ग्रहण किया.

भगत सिंह के ही माध्यम से ‘भारत माता की जय’ और ‘वंदे मातरम’ मंत्रों के स्थान में भारतीय गुप्त सशस्त्र क्रांति के प्रयास ने ‘क्रांति चिरंजीवी हो’, ‘इंक़लाब ज़िंदाबाद’, ‘साम्राज्यवाद का नाश हो’ आदि नारे लगाए और जहां क्रांतिकारी लोग पुलिस की यंत्रणाओं और मृत्यु के भय से मुक्त होने के लिए शरीर की नश्वरता और आत्मा के नित्यत्व का निदिध्यासन, पद्मासन लगाए गीता पाठ करते हुए नज़र आते थे, वहां अब वे मार्क्स की ‘कैपिटल’ (पूंजी) का स्वाध्याय करते नज़र आने लगे.”

  • भगवान दास माहौर

भगत सिंह और चंद्रशेखर आज़ाद के साथी रहे क्रांतिकारी मन्मथनाथ गुप्त की लिखी किताब ‘चंद्रशेखर आज़ाद’ में इस बात का ज़िक्र है.
इन बातों से पता चलता है कि क्रांतिकारियों के बीच समाजवाद का बीज बोने का श्रेय बहुत हद तक भगत सिंह को जाता है. इससे पहले अगर देखा जाए तो काकोरी कांड में फांसी पाए राजेन्द्र लाहिड़ी, रामप्रसाद बिस्मिल, अशफ़ाक़ उल्लाह ख़ान और रोशन सिंह के फांसी से ठीक पहले लिखे पत्रों और शेरों को पढ़ने पर पता चलता है कि इन सबमें धार्मिक भाव अच्छे-ख़ासे थे.
चंद्रशेखर आज़ाद के धार्मिक स्वरूप को हम सभी जानते ही हैं.
काकोरी कांड के समय पार्टी का नाम ‘हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन’ था जिसमे बाद में ‘सोशलिस्ट’ शब्द जोड़ा गया और फिर ये ‘हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन आर्मी’ के नाम से जाना जाने लगा. इस नाम के साथ ही दल ने एक तरह से समाजवाद और मज़दूर वर्ग के शासन को अपना लक्ष्य ज़ाहिर किया.

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *