लोकवाणी

मुख़्तलिफ़ आवाज़, निगाह और विचार

समाज

जन्मदिन मुबारक हो कॉमरेड, तुम जो काम हमारे लिए छोड़ गए थे, हम पूरा नहीं कर पाए

खुशबू शर्मा

प्रिय कॉमरेड,

जानते हैं बहुत दुखी होगे तुम। तुम जो काम हमारे लिए छोड़ गए थे, हम पूरा नहीं कर पाए। तुम्हारे सपने आज भी अधूरे हैं। मेरी ही उम्र के रहे होंगे तुम जब अपने मुल्क के लोगों की ख़ातिर फांसी के फंदे पर झूल गए थे। सरकारी दस्तावेजों में तुम आज भी आतंकवादी और राजद्रोही हो। यही खेल है इस सत्ता का, जो इसके राज़ जान लेता है उसे आतंकवादी करार दिया जाता है। सत्ता का चरित्र हर जगह एक जैसा है, चाहे यह विदेशियों के हाथों में हो या अपने ही मुल्क के चंद लोगों के हाथों में, जुल्म करने से बाज नहीं आती। तुम्हें भी तो यही डर था ना कि सत्ता अगर गोरों के हाथों से निकलकर अपने देश के बुर्जुआ वर्ग के हाथों में आ जाएगी, तब भी हम गुलाम ही रहेंगे। हुआ भी वही। तुम चले गए और पीछे छूट गयी मजदूरों किसानों के हक की लड़ाई जो आज भी कोई लड़ने को तैयार नहीं है। जो लड़ता है, उसे शहरी नक्सल, आतंकवादी, देशद्रोही और भी न जाने क्या क्या कहा जाता है।

तुम्हारे मुल्क के युवा राजनीति नहीं करना चाहते। नौजवानों को अपने ही लोगों की पीड़ा का अहसास नहीं है, है भी तो सबकी जु़बानें सिली हुई हैं। तुम भी राजनीति करते थे, तुम भी तो लड़ा करते थे इस मुल्क के लोगों के आत्मसम्मान की लड़ाई। तुम्हें तो कभी नहीं लगा कि यह नौजवानों का काम नहीं। तुम नहीं कतराए इंकलाब लिखने से। तुम्हारे मुल्क के लोग आज धर्म की चरस के नशे में इस कदर डूबे हुए हैं कि इंसान होने का सबक भूल गए हैं।

कॉमरेड अब सब बदल गया है। इतना कि तुम ख़ुद अपनी ही ज़मीं को नहीं पहचान पाओगे। या शायद तुम्हारी याद्दाश्त हमारे जितनी कमज़ोर नहीं होगी। हम तो हमारे साथ हुए हर अन्याय को आँसू के साथ बहा देते हैं। तुम्हें तो सब याद होगा। जब तुम जलियांवाला बाग की दीवार पर गोलियों के निशान देखोगे, तुम्हारे भीतर फिर वही भगत जाग जाएगा ना जिसे लोग उद्दंडी आतंकवादी कहते हैं। इस बार तुम अपने भीतर का क्रोध अपने किसी कामरेड को दे जाना। इस मुल्क को तुम्हारे भीतर की धधकती आग और तुम्हारे साहस की बहुत जरूरत है। साथ ही वो संवेदनाऐं भी छोड़ जाना जिसने तुम्हें अपने लोगों की तकलीफ का अहसास कराया। वो करूणा से भरा हृदय भी दे जाना जो साथियों की पीड़ा पर मरहम लगाए बिना चैन नहीं पाता।

कॉमरेड तुम होते तो कितना अच्छा होता। आजकल तुम्हें केसरिया पगड़ी पहनाने लगें हैं, जगह जगह तुम्हारी मूर्तियाँ भी हैं। लेकिन दुख इस बात का है कि इन मूर्तियों पर फूल चढ़ाने वाले लोग नहीं जानते की असल में भगत है कौन। वे नहीं जानते कि ज़मीन का टुकड़ा भगतसिंह का देश नहीं था, भगत के लिए तो उसके नौजवान, किसान, मजदूर, दलित, पिछड़े ही मुल्क की आत्मा थी।

जब तुम्हारा जन्मदिन आता है न, तुम्हें सब याद करते हैं, लेकिन कोई याद नहीं करता। हर फांसी पर लटकते किसान के साथ तुम भी बार बार, न जाने कितनी बार मरते हो। दोज़ख़ सी जिंदगी जीते मज़दूरों के शरीर से टपकती अनगिनत पसीने की बूंदों के साथ जाने तुम्हारे भी कितने आँसू निकलते होंगे।

तुम हमारे हवाले कर तो गए थे इस वतन को, लेकिन तुम्हारे सपने अब भी अधूरे हैं। चारों ओर घना अँधेरा है, लेकिन उस अँधेरे को चीरती हुई एक तीखी सी रौशनी है तुम्हारी याद, तुम्हारा बोला गया हर लफ्ज़, तुम्हारी कलम से लिखा गया हर एक शब्द। जब तक तुम हो, तुम्हारी याद है, तुम्हारी परछाई है, तब तक उम्मीद जिंदा है। इंकलाब की सारी संभावनाएँ जीवित हैं। क्रांतिकारियों की ऊर्जा का स्त्रोत हो तुम। तुम सर्वहारा का हौसला हो।

कभी मिले नहीं तुमसे, लेकिन कभी किसी नारे में, किसी पोस्टर में देख-सुन कर महसूस कर लिया करते हैं तुम्हारे साहस को, तुम्हारे जुनून को, इंसानियत के प्रति तुम्हारे प्रेम को, तुम्हारे ज्ञान और विवेक को।

जन्मदिन मुबारक हो कॉमरेड। जानते हैं कि अभी वक्त है तुम्हारे जन्मदिन में, लेकिन नहीं चाहती की मेरे शब्द तुम्हें न जानने वालों की आवाज़ों के शोर में गुम हो जाएं।

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *