लोकवाणी

मुख़्तलिफ़ आवाज़, निगाह और विचार

राजनीति

मैनें वोट नहीं डाला तो लोकतंत्र कैसे कमजोर हुआ, यह तो पहले से ही कमजोर है?

Jasminder Tinkoo चुनाव को कोई लोकतंत्र का महापर्व बोल रहा है, कोई कह रहा है कि देश के प्रति जिम्मेदारी निभाने का सबसे बड़ा दिन है। तो कोई कहता है कि यदि आप वोट नहीं डालते हैं तो आप सरकार…

रोहतक में नरेंद्र मोदी: ‘बदले-बदले मेरे सरकार नज़र आते हैं’

धीरेश सैनी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 2014 के हरियाणा विधानसभा चुनाव के दौरान हुई रोहतक रैली से उनकी कल की लोकसभा चुनाव प्रचार के तहत रोहतक में हुई रैली से तुलना करें तो उस मशहूर गीत के मुखड़े के शेर…

क्या है बहुजन मतदाताओं के मन की बात?

सुशील मानव उत्तर प्रदेश दलित राजनीति की दृष्टि से देश का सबसे महत्वपूर्ण राज्य है। यही वो प्रदेश है जहां से कोई दलित महिला तीन बार मुख्यमंत्री के पद तक पहुँची। अबकी बार प्रदेश से मायावती को प्रधानमंत्री के पद…

क्या कभी आप लोग ध्यान से सोचते हैं कि प्रधानमंत्री मोदी ऐसी बेवकूफी से भरी हुई बातें क्यों करते हैं!

गिरीश मालवीय मोदी दो दिन पहले कौशाम्बी की रैली में बोले कि जब ‘नेहरू प्रधानमंत्री थे तो वह एक बार कुंभ मेले में गये थे. तब पंचायत से पार्लियामेंट तक कांग्रेस की सरकार थी. तब अव्यवस्था के कारण कुंभ में…

भारतीय राजनीति में अलग नाम के खतरे और अतिशी मरलेना का यहूदी, ईसाई या क्षत्रिय हिन्दू हो जाना!

चुनाव में हिंदू के अलावा अगर आप कुछ और हैं या साबित कर दिए जाएँ कि और हैं, तो आपको मतदाताओं के बहुलांश के चित से उतार दिया जा सकता है: यह जो है, वह आपमें से नहीं है। इसलिए…

नरेंद्र मोदी का बयान, पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी और राजनीति के पेंच

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के बारे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बेहद अशोभनीय बयान दिया है. इस संदर्भ में स्वर्गीय गांधी के कार्यकाल और तत्कालीन राजनीतिक परिदृश्य तथा पत्रकारिता पर एक लंबी टीप Prakash K Ray पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी…

मोदी-साध्वी के लिए सांप्रदायिकता आरोप नहीं, इनाम है

राहुल कोटियाल ‘दोषी सिद्ध न होने तक कोई भी व्यक्ति निर्दोष समझा जाता है.’ – यही भारतीय न्याय व्यवस्था का नियम है. तो फिर साध्वी प्रज्ञा के चुनाव लड़ने पर इतना हंगामा क्यों मचा है? कोर्ट ने उन्हें अब तक…

मसूद अज़हर से सियासी लाभ के लिए भारत ने चीन और पाक की शर्तें क्यों मानी

इंडियन एक्सप्रेस में शुभाजीत रॉय की एक ख़बर है। आप पाठकों को यह ख़बर पढ़नी चाहिए। इससे एक अलग पक्ष का पता चलता है और इस मामले में आपकी जानकारी समृद्ध होती है। इस रिपोर्ट में विस्तार से बताया गया…

फिर शुरू हुए एयर इंडिया को बेचने के प्रयास

करीब 55,000 करोड़ रुपए के कर्ज के बोझ से दबे भारत के सार्वजनिक क्षेत्र के एयर इंडिया को बेचने की कोशिशें कुछेक बार टांय-टांय फिस्स हो जाने के बावजूद इसे बेचने के नए सिरे से प्रयास चालू किये गए हैं।…

बीजेपी का कारनामा: 4 लाख करोड़ का घोटाला आया सामने, सुप्रीम कोर्ट का सरकार को नोटिस

वो लोग आज जरा सामने आएंं जो कहते हैं कि मोदी सरकार में कोई घोटाला नहीं हुआ। 4 लाख करोड़ रुपये का घोटाला सामने आया है. जी हां ‘पूरे 4 लाख करोड़ का घोटाला’ लेकिन बिका हुआ मीडिया इस खबर…