लोकवाणी

मुख़्तलिफ़ आवाज़, निगाह और विचार

राजनीति

लाल झंडा लिए मेरी कविताएं मेरे विरुद्ध हड़ताल पर बैठी हैं संसद मार्ग पर

कविताओं की हड़ताल मेरी कविताएं हड़ताल पर हैं मैंने उनसे अपील कीपर वे नहीं मानी मैंने कहा चुनाव प्रचार में शामिल करूंगा कविता ने कहा -तू ठग है कवि नहीं मैंने कहा -पाठ्यक्रम में शामिल करवाऊंगा उसने कहा – मुझे मौत मंजूर है मेरी…

लोहिया याद आते रहेंगे लेकिन इस दौर के छुटभइए नेता उन्हें भुला देना चाहते हैं

आजादी के समय चारों तरफ रक्तपात मचा हुआ था. दिल्ली में एक मुसलमान लड़का डॉ. राममनोहर लोहिया से टकरा गया. वह समझता था कि लोहिया के साथ वो सुरक्षित है. लेकिन कम उम्र होने के कारण वह यह नहीं समझ…

राजस्थान कांग्रेस विकल्पहीनता के कारण ज़िंदा हैं, मुसलमान राजनीतिक रूप से यतीम हैं!

जितेंद्र महला राजस्थान में आरएसएस-बीजेपी के सामने कांग्रेस इसीलिए ज़िंदा है क्योंकि गैर बीजेपी-गैर कांग्रेस दल और नेता अभी तक विचारधारा की पुख़्तगी की कमी और बेजोड़ संघर्ष की कमी के कारण कांग्रेस का विकल्प नहीं बन सके. वरना कांग्रेस…

कांग्रेस का हाथ, अडानी के साथ: भूपेश बघेल ने अडानी को दिया कोयला खदान का ठेका

आखिरकार छत्तीसगढ़ के कांग्रेसी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी अडानी जैसे बड़े कारपोरेट के आगे लंबलेट हो ही गए, छत्तीसगढ़ के कोरबा ज़िले में गिधमुड़ी और पतुरिया कोयला खदान को कांग्रेस पार्टी की सरकार ने अडानी की कंपनी को सौंपने का…

क्या भारत और पाकिस्तान के झण्डों के सफेद रंग (अल्पसंख्यक) सुरक्षित हैं?

मिलेनियम सिटी को साजिद के घर में घुस कर मारने का वीडियो कैसा लगता होगा. गुरुग्राम की घटना का वीडियो जब तक उभर आता है। सोशल मीडिया के किसी पेज पर जाता हूं तो दिख जाता है। छत पर लड़कियां…

महिलाओं के राजनीति में आने से मर्दों की पितृसत्ता और यौन कुंठा की गठरी क्यों खुल जाती है?

अरे सपना चौधरी राजनीति में चली गई तो स्टेज पर ठुमके कौन लगाएगा, राजनीति में शामिल होकर सपना स्टेज पर भाषण देती हुई सपना कहां जचेगी। सपना तो सपना तभी मानी जाएगी जब वह स्टेज पर तेरी आंख्यो का यो…

दुनिया में केवल दो ही वर्ग हैं: ‘शोषक और शोषित’, तय आपको करना है आप किसमें फिट बैठते हैं

ये कोई आज की बात नहीं है. वर्ग संघर्ष सदियों से चला आ रहा है. लोगों ने समय-समय पर इसके ख़िलाफ़ आवाज़ भी बुलंद की है. पर आज सूरत ये है कि हमें ख़ुद ही नहीं पता कि हम किस…

गौतम गंभीर: वह आदमी जो क्रिकेटर्स की टीम से चौकीदारों की टीम में शामिल हुआ

गौतम गंभीर क्रिकेट का मैदान छोड़ सियासी पारी खेलने उतर चुके हैं. गौतम गंभीर ने शुक्रवार को बीजेपी जॉइन की है. बताया जा रहा है कि बीजेपी नई दिल्ली सीट से गंभीर को अपना उम्मीदवार बना सकती है. इस खबर…

भगत सिंह: हिंदुस्तानी इंक़लाब में समाजवाद का बीज बोने वाला शख्स

“क्रांति प्रयास के इस विकास मार्ग में भगत सिंह एक ऐसे व्यक्ति थे जिसे अंग्रेज़ी में मोड़-सूचक, पाषाण-चिन्ह कहा जाता है. समय और समाज की आवश्यकताओं ने भगत सिंह को ही माध्यम बनाकर उत्तर भारत के संगठित गुप्त सशस्त्र क्रांतिकारियों…

राम मनोहर लोहिया जयंती विशेष: जब जब लोहिया बोलता था, दिल्ली का तख़्ता डोलता था!

डॉ. राम मनोहर लोहिया की जयन्ती पर सलाम! उत्तर भारत में आज भी आप राजनीतिक रुझान रखने वाले किसी युवा से बात करें तो वो इस नारे का जिक्र ज़रूर करेगा: जब जब लोहिया बोलता है दिल्ली का तख़्ता डोलता…