लोकवाणी

मुख़्तलिफ़ आवाज़, निगाह और विचार

राजनीति रिपोर्ट

मोदी को सबकुछ भूलकर पाकिस्तान द्वारा पकड़े गए भारतीय पॉयलेट को वापस लाना चाहिए

पाकिस्तान ने आज क्या किया? सुबह अपने F-16 फाइटर्स से उसने भारतीय जमीन पर ऐसी जगहों पर निशाने लगाए जो पूरी तरह से खाली थे. इस हमले से उसने भारतीय एयरफोर्स को जवाब देने के लिए मजबूर किया.

भारतीय मिग फाइटर्स जवाब देने के लिए उड़े तो पाकिस्तानी F-16 अपनी सीमा में वापस लौटने लगे. मिग पाकिस्तानी सीमा में पहुंचे तो पाकिस्तानी एयर डिफेंस ने उन्हें शूट कर दिया.

पाकिस्तान ने हमारे भारतीय पॉयलट अभिनंदन को पकड़ लिया. तुरंत उसे मीडिया के सामने पेश किया. इस प्रकार पाकिस्तान ने दुनिया को बताया कि भारत ने उसकी सीमाओं का उल्लंघन किया और उसने भारत के पॉयलट को पकड़ लिया.

सुबह जैसे ही पाकिस्तान ने सीमा पार हमला किया, उसके तुरंत बाद पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी किया कि पाकिस्तान ने ये हमला सीमाओं में रहते हुए किया है. पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने कहा कि हम चाहते तो भारत के सैन्य ठिकानों को निशाना बना सकते थे लेकिन हमने जानबूझकर खाली जगहों को निशाना बनाया. पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने बताया कि ऐसा उसने इसलिए किया क्योंकि वो युद्ध नहीं चाहता बल्कि बस यह दिखाना चाहता है कि उसे अपनी देश की सुरक्षा करने का पूरा हक है.

इधर पॉयलट को हिरासत में लेने के बाद इमरान खान ने कह दिया कि वे भारत के सामने बातचीत का विकल्प सामने रख रहे हैं. इस तरह पाकिस्तान ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय के सामने एक और संदेश दिया कि वो युद्ध की जगह शांति में विश्वास रखता है लेकिन हमला होने की स्थिति मेें बड़े से बड़ा कदम उठाने को तैयार है.

कल हमने क्या किया..

हमने एयर स्ट्राइक की और दुनिया को बताया कि ये कदम हमने भविष्य में आतंकी हमलों को रोकने के लिए लिया है.

यहां तक सब ठीक था. पूरे विश्व ने आतंक के खिलाफ हमारी इस कार्रवाई का समर्थन किया.

लेकिन फिर क्या हुआ. इसके बाद पुलवामा हमले की जिम्मेदारी से पूरी तरह से अपना पल्ला झाड़ लेने वाले नरेंद्र मोदी ने चुरू में रैली की. रैली में पीछे पुलवामा हमले में मारे गए सैनिकों की फोटो लगवाईं और वीर रस की कवितायें सुनाकर उन्माद पैदा किया. अगले लोकसभा चुनाव में वोट पाने के लिए भोंडा प्रदर्शन किया.

अमित शाह ने रैली की और कहा कि अगला चुवान इस मुद्दे पर ही लड़ा जाएगा. यहां ध्यान रखा जाए कि पाकिस्तान लगातार कहता आया है कि पुलवामा हमले की जिम्मेदारी उसके ऊपर जानबूझकर इसलिए डाली जा रही है क्योंकि नरेंद्र मोदी इस मुद्दे पर अगला चुनाव जीतना चाहते हैं.

इधर अंतरराष्ट्रीय मीडिया भारत के इस दावे पर शक करती रही कि उसने बालाकोट में टेरर कैंप्स को निशाना बनाया है. कई अंतरराष्ट्रीय मीडिया संस्थानों ने ग्राउंड पर जाकर भारत के इस दावे को ही झूठा सिद्ध कर दिया.

इससे पाकिस्तान का वो दावा मजबूत हुआ कि भारत ने अंतरराष्ट्रीय सीमा का उल्लंघन किया और पीछा करने पर खाली जगहों पर बम गिरा दिए. जैसे ही पाकिस्तान का ये दावा मजबूत हुआ उसे आज सुबह हमला करने का एक ठोस बहाना मिल गया.

इससे पहले कारगिल युद्ध में भी भारतीय पॉयलेट नचिकेता को पाकिस्तान ने पकड़ लिया था। युद्ध के दौरान पाकिस्तान में जी. पार्थसारथी भारतीय उच्चायुक्त उन्हें सूझबूझ से वापस लाने में कामयाब रहे थे। इस समय सरकार को सूझबूझ दिखाने की जरूरत है ताकि भारतीय पॉयलेट को वापस लाया जा सके।

लेकिन इस बीच हमारे प्रधानसेवक मोदी वीर रस की कविताएं सुनाते रहे और मेट्रो में सफर करते रहे. एयर स्ट्राइक और सैनिकों की मौत का राजनीतिकरण करते रहे. विदेशी मीडिया को प्रश्नों का उत्तर देना जरूरी नहीं समझा.

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *