लोकवाणी

मुख़्तलिफ़ आवाज़, निगाह और विचार

रिपोर्ट

20 हज़ार लोगों की फैमिली सड़कों पर, एयरहॉस्टेस को पहली बार रोते हुए देखा है

जेट एयरवेज का भट्ठा बैठ गया है. अस्थाई तौर पर कंपनी ने अपनी सभी उड़ानें रोक दी हैं. बुधवार रात दस बजे अमृतसर से मुंबई के लिए अंतिम फ्लाइट टेक ऑफ किया. कंपनी के पास ईंधन से लेकर दूसरी जरूरी सुविधाओं के लिए पैसा नहीं बचा है. लगभग 20 हजार लोगों की नौकरियां एक झटके में खत्म हो गई हैं.

मंगलवार को अजीम प्रेमजी यूनीवर्सिटी ने एक रिपोर्ट पेश की थी. रिपोर्ट में बताया गया कि नोटबंदी की वजह से दो साल में 50 लाख लोगों का रोजगार छिन गया.

प्रधानमंत्री मोदी अपने भाषणों में रोजगार की बात नहीं कर रहे हैं. वो सेना की बात कर रहे हैं. पड़ोसी देश को सबक सिखाने की बात कर रहे हैं. खुद को दलित बता रहे हैं. रोजगार पर बात करने से परहेज कर रहे हैं. क्यों कर रहे हैं, ये बिल्कुल साफ है.

इस हफ्ते के आखिर में बीजेपी एक नया नारा जारी करेगी. नारा होगा ‘काम रुके ना, देश झुके ना’. इस नारे के सहारे बीजेपी अगले पांच साल में देश को विश्वगुरू बनाने का रोडमैप जनता के सामने रखेगी. जबकि पिछले पांच साल की करतूतों पर कोई बात नहीं होगी. आप लोग नारे पर विश्वास कर लीजिएगा. ठीक है.

ज़ुल्म सहना भी तो ज़ालिम की हिमायत ठहरा,
ख़ामोशी भी तो हुई पुश्त-पनाही की तरह!

अगर आपको लगता है कि आप सरकारी कर्मचारी हैं। आपकी नौकरी से आपका भविष्य सुरक्षित है, तो आपको एक बार फिर से सोचना चाहिए।

जेट एयरवेज बंद हो चुकी है, 20,000 लोग सड़क पर आ गए हैं। जो हालात हैं उससे जाहिर है कि अगला नंबर एयर इंडिया का है।

राफेल के शोर में चुपचाप हवाई अड्डे अडानी को सौंप दिए गए। किसी को खबर भी नहीं हुई।

आईडीबीआई बैंक का चुपचाप निजीकरण हो गया कर्मचारी रोते-चिल्लाते रह गए।

सरकार की तरफ से निर्देश मिलने के बाद से बैंक निजीकरण की राह में बढ़ भी चुकी हैं. स्टेट बैंक ने इस प्रक्रिया में पात्र संस्थागत नियोजन (क्यूआईपी) के तहत 20,000 करोड़ रुपये की शेयर बिक्री शुरू की है.

Bsnl का दर्द किसी से छिपा नहीं है। जबकि आज ही रिपोर्ट आई है, इस तिमाही में जिओ ने रिकॉर्ड कमाई की है।

रेलवे भी निजीकरण की राह पर है। हाल ही में गिरीश पिल्लई ने ये बात स्वीकार की थी कि रेलवे के निजीकरण के लिए योजनाएं बनाई जा रही हैं। गिरीश रेल बोर्ड के सदस्य हैं।

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *