लोकवाणी

मुख़्तलिफ़ आवाज़, निगाह और विचार

Latest post

जर्मन शासकों से प्रेरणा लेकर ही मोदी जी कह रहे हैं कि खाने के लिए रोटी नहीं है तो कसरत करो

कृष्णकांत जर्मन शासक कहते थे कि जनता को खाने के लिए रोटी नहीं है तो उन्हें सर्कस दो। मोदी जी कह रहे हैं कि खाने को रोटी नहीं है तो कसरत करो। राष्ट्रीय स्वास्थ्य सर्वे 2015-16 कहता है कि भारत…

फैक्टचेक: कांट-छांट कर बनाया गया है रवीश कुमार का भ्रामक वायरल वीडियो, ये है सच्चाई

कल से रवीश कुमार का एक वीडियो तेजी से वायरल हो रही है. इसमें 27 फरवरी 2013 और 2019 के प्राइम टाइम के एक वीडियो को क्लब करके बनाया है. दिखाने की कोशिश की जा रही है कि 2013 में…

आदमी भेड़ नहीं होता, जिसदिन लोगों को यह अहसास हो जाएगा, भेड़ों की तरह हांकते गड़रिए भाग खड़े होंगे

हेमंत कुमार झा आबादी के अधिकतर लोग हर युग में भेड़ ही रहे हैं। यह तो युग का नेतृत्व होता है जो उन्हें आईना दिखाता है, राह दिखाता है और फिर…भेड़ों को आदमी बनने की प्रेरणा देता है। युग और…

भारत के पांचवें राष्ट्रपति फखरुद्दीन अली अहमद के परिवार का नाम NRC लिस्ट में न होने का मतलब?

कृष्णकांत भारत के पांचवें राष्ट्रपति फखरुद्दीन अली अहमद के परिवार का नाम एनआरसी लिस्ट में नहीं है। कई ऐसे लोगों के नाम गायब हैं जो आज़ादी की लड़ाई लड़े। कई ऐसे लोगों का नाम गायब है जो भारतीय सेना में…

पत्थलगड़ी गावों के आदिवासियों के खिलाफ़ झारखंड सरकार का दमनकारी रवैया

6-7 अगस्त 2019 को सामाजिक कार्यकर्ताओं, शोधकर्ताओं, पत्रकार व वकीलों के एक दल ने खूंटी ज़िले के कई पत्थलगड़ी गावों (खूंटी प्रखंड के घाघरा, भंडरा व हाबुईडीह व अर्की प्रखंड के कोचांग व बिरबांकी) का दौरा किया. दल ने इन…

आर्थिक मोर्चे में लगातार लुढ़कती सरकार को क्यों चाहिए कश्मीर कश्मीर

बैंक फ्राड की राशि पिछले साल की तुलना में 73.8 प्रतिशत अधिक हो गई है। 2017-18 में 41,167 करोड़ का फ्राड हुआ था। 2018-19 में 71,542 करोड़ का फ्राड हुआ है। केस की संख्या के मामले में 15 प्रतिशत की…

भ्रष्ट अधिकारियों को न्यायपालिका से मिल रहा है संरक्षण- जस्टिस राकेश कुमार

भ्रष्ट अधिकारियों को न्यायपालिका से मिल रहा है संरक्षण- जस्टिस राकेश कुमार पटना हाई कोर्ट के जस्टिस राकेश कुमार ने अपने एक फ़ैसले में लिख दिया है कि ” लगता है कि हाईकोर्ट प्रशासन ही भ्रष्ट अधिकारियों को संरक्षण दे…

उजड़ती राजनीतिक संस्कृति: अर्थ व्यवस्था से अपना नियंत्रण खोती सरकारें

सबसे बड़ा संकट यह है कि सरकारें बाजार पर से अपना नियंत्रण खोती जा रही हैं। बाजार की ताकतों ने राजनीतिक संस्कृति को ही बदल डाला है और नीतियों के निर्माण में राजनेताओं की भूमिका को परोक्ष तौर पर सीमित…

यह किसी दलित की लाश नहीं है, बल्कि इस समाज की अर्थी है

तमिलनाडु के वेल्लोर जिले में दलितों को अंतिम संस्कार के लिए एक शव पुल से नीचे लटकाकर उतारना पड़ा, क्योंकि खुद को अगड़ी जाति मानने वाले लोगों ने आगे जाने की इजाजत नहीं दी. यह घटना 17 अगस्त की है,…

पी. चिदंबरम: भ्रष्टाचार के बहाने मज़लूमो की हाय का शिकार, गिरफ्तार हुए तो इनके चेहरे खिल उठे

अन्सार इन्दौरी चौबीस घंटे से अधिक हाई प्रोफइल ड्रामे के बाद सीबीआई ने बुधवार को भारत के पूर्व गृहमंत्री पी. चिदंबरम को गिरफ्तार कर लिया। ये वही पी. चिदंबरम हैं जिनका अपने ज़माने में सोचना था कि हमारे यहां आतंकवाद…