लोकवाणी

मुख़्तलिफ़ आवाज़, निगाह और विचार

रिपोर्ट

पंजाब नेशनल बैंक में 3805 करोड़ का घोटाला, बैंक का नाम ‘घपला घोटाला बैंक’ क्यों नहीं कर देते?

गिरीश मालवीय

पंजाब नेशनल बैंक का नाम बदल कर अब ‘घपला घोटाला बैंक’ रख देना चाहिए। सबसे पहले जतिन मेहता फिर नीरव मोदी और अब भूषण स्टील के नीरज सिंघल। इन तीनों ने पीएनबी बैंक के खाताधारकों के हजारों करोड़ रुपये डुबो दिए हैं, छोटे मोटे 100 से 500 करोड़ के घपलों घोटालों की तो खबरें ही बाहर नहीं आ पाती हैं।

आज खबर आई है कि PNB में भूषण पावर एंड स्टील लिमिटेड (BPCL) ने 3805.15 करोड़ रुपए का घोटाला किया है। बैंक ने इस बारे में RBI को रिपोर्ट भी सौंप दी है। इस रिपोर्ट में पीएनबी ने लिखा है कि, भूषण पावर एंड स्टील लिमिटेड ने बैंक कर्ज में धोखाधड़ी की और बैंकों के समूह से कोष जुटाने को लेकर अपने बहीखातों में गड़बड़ की है।

कुछ दिन पहले भूषण स्टील लिमिटेड के मामले में सीरियस फ्रॉड इनवेस्टिगेशन ऑफिस (SFIO) ने 284 व्यक्तियों और एंटिटीज के खिलाफ 70,000 पेज की चार्जशीट दाखिल की है।
इस चार्जशीट में 45,818 करोड़ रुपये के फंड के डायवर्जन की जानकारी दी गई है। इससे बैंकों और फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशंस को 20,879 करोड़ रुपये का गैरवाजिब नुकसान हुआ और कंपनी के पूर्व प्रमोटर्स ने 3,500 करोड़ रुपये का गलत फायदा लिया था इस जांच में पाया गया है कि आरोपी पूर्व प्रमोटर्स बृजभूषण सिंघल और उनके पुत्र नीरज सिंघल ने 157 कंपनियां बनाकर कथित तौर पर उनका इस्तेमाल फंड के डायवर्जन के लिए प्रॉपर्टीज खरीदने में किया था।

इससे पहले SFIO ने नीरज सिंघल को गिरफ्तार भी कर लिया था। बाद में उन्हें दिल्ली हाईकोर्ट से जमानत मिल गयी।

भूषण स्टील के मालिक ब्रजभूषण सिंघल फिल्मों के बहुत शौकीन बताए जाते है कहा जाता हैं कि जब 2008 में वैश्विक मंदी चल रही थी तब तब इनके बेटे नीरज के जन्मदिन की पार्टी में सैफ अली खान और करीना कपूर डांस आइटम करने गए थे।

इस घोटाले का इंदौर से भी गहरा संबंध है। क्योंकि एसएफआईओ डायरेक्टर के मुताबिक जांच के दौरान इंदौर की संपत्तियां छुपा ली गयी हैं। सुनील बघेल जो भास्कर में पत्रकार हैं उन्होंने इस बारे में एक खोजी रिपोर्ट की थी जो भास्कर में प्रकाशित हुई थी। इस रिपोर्ट में बताया गया था कि नीरज सिंघल की पत्नी के नाम इंदौर बायपास पर निर्माणाधीन मॉल और खेल के सामान के एक बड़े स्टोर के पास कई एकड़ जमीन है। जिसकी कीमत सेकड़ों करोड़ हो सकती है जिसे छुपाया गया है।

भूषण स्टील लिमिटेड (बीएसएल) का प्रकरण देश के 12 बड़े कर्जदारों की सूची में शामिल है। बैंकों और दूसरे संस्थानों की करीब 45 हजार करोड़ की वसूली के लिए नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) ने इसे 29 हजार करोड़ रुपए में टाटा समूह को नीलाम कर दिया था। इस सौदे की बहुत तारीफ हुई थी क्योंकि इसमे 50 प्रतिशत से भी ज्यादा की वसूली सम्भव हो पाई थी लेकिन अब जिस तरह से यह नया 3 हजार आठ सौ करोड़ का घोटाला सामने आया है उस से इस पूरी प्रक्रिया पर भी सवाल पैदा हो जाते हैं।

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *