लोकवाणी

मुख़्तलिफ़ आवाज़, निगाह और विचार

Anirban

जेएनयू के छात्रों पर मुक़दमा राजद्रोह का और प्रचार देशद्रोह का !

राजद्रोह और राष्ट्रद्रोह (या देशद्रोह) एक चीज़ नहीं हैं। दोनों में ज़मीन-आसमान का फ़ासला है। फिर भी मीडिया का एक हिस्सा राजद्रोह के आरोपियों को देशद्रोही कहता है। यह शासन और उसकी विचारधारा की चापलूसी है। कन्हैया कुमार आदि (तत्कालीन)…