लोकवाणी

मुख़्तलिफ़ आवाज़, निगाह और विचार

Latest post

क्यों भारत का कोई युवा नेता विश्वस्तर के राजनीतिज्ञों की सूची में शामिल नहीं है

हेमंत कुमार झा टाइम मैगजीन ने वर्त्तमान में उभर रहे और भविष्य में अपनी छाप छोड़ने की संभावनाएं दर्शाने वाले राजनीतिज्ञों की एक सूची प्रकाशित की है। एक छोटे से देश कोस्टारिका के 39 वर्षीय राष्ट्रपति कार्लोस अलवारेडो क्युसाडा इस…

भोपाल गैस त्रासदी: जिनका कोई नहीं था उनके थे जब्बार भाई

महताब आलम भोपाल गैस त्रासदी के पीड़ित को इन्साफ़ दिलाने के लिए संघर्ष करने वाले सामाजिक कार्यकर्ता अब्दुल जब्बार का जुमेरात (बृहस्पतिवार) को इंतिक़ाल हो गया। वो भोपाल गैस पीड़ित के हक़ में काम करने और उनको इज़्ज़त के साथ…

तथाकथित महान संस्कारों की असलियत यही है कि भ्रष्टाचार हमारे समाज की रग-रग में दौड़ता है

प्रेम शुक्ल फ़तेहपुर सीकरी गया तो क़िले का अस्तबल दिखाते हुये गाइड बताने लगा कि यहाँ से ही सबसे पहले अकबर ने घोड़ों पर मुहर लगाने की शुरुआत की थी। वज़ह पूछने पर वो इससे ज़्यादा कुछ नहीं बता पाया…

‘मंदिर वहीं बनाएँगे’ से ‘मंदिर वहीं बनेगा’ तक!

प्रोफेसर अपूर्वानंद  ‘मंदिर वहीँ बनाएँगे’, पिछले तीस साल से यह नारा लगाते हुए जिनके गले छिल गए हैं, उनकी पीठ थपथपाते हुए कहा गया है, ‘इतना हलकान क्यों होते हो? मंदिर वहीं  बनेगा।’ ‘मंदिर वहीं बनाएँगे’ से ‘मंदिर वही बनेगा’ तक…

आज अयोध्या मामले में आएगा फ़ैसला, भारत के शानदार नागरिकों न्यूज़ चैनल बंद कर दें और सामान्य रहें

रवीश कुमार 9 नवंबर को अयोध्या मामले में आएगा फ़ैसला, नागरिकों के नाम एक पत्र, बंद कर दें न्यूज़ चैनल और सामान्य रहें। भारत के शानदार नागरिकों, 9 नवंबर 2019 को सुप्रीम कोर्ट बाबरी मस्जिद रामजन्मभूमि मामले पर फ़ैसला सुनाने…

शिवसेना-बीजेपी दोनों कहती हैं कि हिंदुओं एक हो जाओ और खुद कुर्सी के लिए लड़ रही हैं!

कृष्णकांत हिंदुओं के एक हो जाने का आह्वान करने वाली दोनों हिंदूवादी पार्टियां कुर्सी के लिए दस दिन से आपस में लड़ रही हैं. हिंदुओं के लिए कुर्सी की कुर्बानी देने को कोई नहीं तैयार है, लेकिन जनता से दोनों…

छठ टोकरा ढोते रवीश कुमार

सिर पर अंधश्रद्धा का टोकरा ढोते रवीश कुमार की छवि की ‘टीआरपी’ अपील ज़ोरदार है। गाँव-ग्रामीण अभिभूत हैं। बिहार-ईस्ट यूपी के छठी दोस्त फ़िदा हुए जा रहे हैं। कोई उनके श्रमसाध्य भारोत्तोलन की प्रशंसा कर रहा है तो कोई उनकी…

भारत 1930 जैसी वैश्विक महामंदी की ओर बढ़ रहा है..

गिरीश मालवीय 1930 की वैश्विक महामंदी मे अमरिकी जनता पर इस स्लो डाउन का इतना मनोवैज्ञानिक असर पड़ा कि वहां के लोगों ने अपने खर्चो में दस फीसदी तक की कमी कर दी जिससे मांग प्रभावित हुई। क्या ठीक यही…

कश्मीर आए 23 यूरोपियन सांसदों का ख़र्चा उठाने वाली मादी शर्मा कौन है? मादी को मोदी क्या देंगे?

दिलीप खान कश्मीर में सैर-सपाटा करने वाले यूरोपियन पार्लियामेंट के 23 सांसदों का ख़र्चा वहन करने वाली संस्था और मादी शर्मा के बारे में जानिए. इन 23 सांसदों के लिए कश्मीर आधिकारिक तौर पर सैर-सपाटा ही है. वे यूरोपियन पार्लियामेंट…

आखिर में सिर्फ ‘जियो’ ही बचेगा बाकी सब………..

गिरीश मालवीय सुप्रीम कोर्ट ने पिछले हफ्ते आइडिया-वोडाफोन एयरटेल जैसी टेलीकॉम कंपनियों के डेथ वारन्ट पर साइन कर दिया है। कोर्ट के फैसले के बाद 9 दिग्गज टेलीकॉम कंपनियों के अस्तित्व पर ही खतरा मंडरा रहा है। मामला यह था…