लोकवाणी

मुख़्तलिफ़ आवाज़, निगाह और विचार

Month: October 2018

चुनाव से पहले राजपूतों ने करणी सेना से क्यों दूरी बना ली है?

2018 की शुरुआत से ही करणी सेना की कारगुजारियों (गतिविधियों) के चलते ख़बरों में रहे राजस्थान में अब विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। फ़िल्म ‘पद्मावत’ के ख़िलाफ़ प्रदर्शन करने के लिए करणी सेना राजपूत युवाओं की अच्छी-खासी भीड़ जुटाने में…

कांचा इलैया आर्थिक-सामाजिक न्याय की ऐसी आवाज़ हैं जिसे दबाना नामुमकिन है!

25 तारीख को इंडियन एक्सप्रेस की ख़बर पढ़ी तो पता चला कि भारत के मशहूर चिंतक-लेखक कांचा इलैया की तीन किताबों को दिल्ली यूनिवर्सिटी में एमए राजनीतिक विज्ञान के सिलेबस की रीडिंग लिस्ट से हटाने की तैयारी चल रही है।…

आलोक वर्मा को हटाकर कहीं नरेंद्र मोदी ने ख़ुद को और अपने प्यादों को बचाने का जुगाड़ तो नहीं कर लिया है!

सीबीआई के डायरेक्टर आलोक वर्मा और स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के बीच जारी जंग के कारण केंद्र सरकार ने दोनों अधिकारियों से सारे अधिकार वापस ले लिए हैं। एक नज़र में ऐसा लग रहा है कि यह सीबीआई की एक…

दिल्ली के प्रदूषण के लिए किसानों को दोष देना बेवकूफी है!

“दिल्लीवालों फेफड़े थाम कर बैठ जाओ, नाक भींचकर बैठकर जाओ, पंजाब-हरियाणा के किसान भेज रहे हैं जहरीला धुंआ” इस तरह की हेडलाइंस ने दशहरे से एक सप्ताह पहले ही दिल्ली, एनसीआर, पश्चिमी उत्तरप्रदेश, हरियाणा और पंजाब के अख़बारों में जगह…

गंगा के लिए 121 दिन से आमरण अनशन पर बैठे संत गोपालदास को भी सरकार ने फुटबॉल बना दिया है!

तारीख 24 जून, साल 2018। 36 साल का एक संत उत्तराखंड के बद्रीनाथ धाम पर गंगा नदी की तलहटी में खनन के ख़िलाफ़ और गंगा की सफ़ाई के लिए आमरण अनशन पर बैठ जाता है। संत के गुरु प्रोफेसर जी…

मनोहरलाल खट्टर के हरियाणा रोडवेज़ को प्राइवेट बनाने के सपने को पूरा नहीं होने देंगे कर्मचारी!

पिछले कई दिनों से हरियाणा की सार्वजनिक बस सेवा यानी हरियाणा रोडवेज़ ठप चल रही है। गाड़ियां ज़िलों के बसअड्डों पर धूल फांक रही हैं। बसअड्डों पर पुलिस का पहरा है और बसों के ड्राइवर, कंडक्टर और हरियाणा रोडवेज़ के…

मोदी जी कहाँ है मेरा पति? आप जवाब क्यों नहीं देते?

गुजरात के भुज शहर में जी तोड़ मेहनत के बदले कम पग़ार पाने वाले लोगों की एक बस्ती है, जिसका नाम है संजोग नगर। तारीख 19 जुलाई, साल 2018। इसी बस्ती में रहने वाला माज़िद रात के साढ़े नौ बजे…

नजीब की मां को अब बेटों के साथ-साथ बेटियां भी मिल गई हैं !

तारीख 15 अक्टूबर दोपहर के तीन बज रहे हैं। दिल्ली के मंडी हाउस मेट्रो स्टेशन के पास वाले चौक से खुलने वाले बाराखंबा रोड के किनारे पर सैकड़ों लोग इक्कठा हुए हैं। लोगों के हाथ में बैनर हैं जिनमें लिखा…

हरियाणा के छात्र लाठियां खाने के बाद भी सरकार से भिड़े हुए हैं!

तारीख 12 अक्टूबर, समय सुबह के नौ बजे। हरियाणा के रोहतक के महर्षि दयानंद यूनिवर्सिटी में छात्र जमा होने लगते हैं। जैसे-जैसे छात्र जमा होते जाते हैं, वैसे-वैसे ‘वाईस चांसलर हाय-हाय, खट्टर सरकार मुर्दाबाद’ के नारे ऊंचे होने लगते हैं।…

महात्मा गांधी को मुख़्तलिफ़ निगाहों से देखती सात औरतें

हम एक ऐसे समय में जी रहे हैं जहां रंगमंच पर कंटेंट की जगह रंगबिरंगी लाइटें, भारी भरकम सेट और दूसरी कम जरूरी चीजों पर ज्यादा ध्यान रहता है। रंगमंच से अच्छा कंटेंट कब का बेदखल हो चुका है। रंगमंच…