लोकवाणी

मुख़्तलिफ़ आवाज़, निगाह और विचार

Lokvani

गांधी की हत्या के आरोप से सावरकर बरी हुए थे, उनकी विचारधारा नहीं

कृष्णकांत जिन दो राज्यों में चुनाव होने जा रहे हैं उनमें से एक किसानों की कब्रगाह के रूप में जाना जाता है और दूसरा देश में सर्वाधिक बेरोजगारी ​के लिए. बावजूद इसके, केंद्र और राज्यों में सत्तारूढ़ भाजपा ने इतिहास…

हरियाणा का राजनीतिक सफरनामा: हरियाणा के चौधरियों की धक्का पेल!

हरियाणा का एक स्कूल. स्कूल की एक क्लास. क्लास में बच्चे. किस्सा यों है कि डारविन की थ्योरी पढ़ाकर छात्रों को सामाजिक विज्ञान का विधाता बनाने का प्रण लिए बैठे एक मास्टर ने क्लास में घुसते ही सबको बड़े उत्साह…

आगरा मेंटल अस्पताल: यहां ज़्यादातर अपनों द्वारा छले गए आते हैं…

लेखक: बसंत कुमार यहां ज़्यादातर अपनों द्वारा छले गए आते हैं… आगरा मेंटल अस्पताल जंगल के बीच बना हुआ है. बचपन से इसके बारे में सुनते आया था तो देखने का मन हुआ. 10 अक्टूबर को विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस…

बाबरी मस्जिद से पहले भी वहां मस्जिद ही थी – डा. सूरजभान

डॉ सूरजभान रामजन्मभूमि -बाबरी मस्जिद विवाद, काफी समय से इलाहाबाद उच्च न्यायालय (लखनऊ पीठ) के सामने विचाराधीन है। उच्च न्यायालय फिलहाल इस प्रश्न पर साक्ष्यों की सुनवाई कर रहा है कि 1528 में बाबरी मस्जिद के बनाए जाने से पहले,…

‘मंदिर वहीँ बनाएंगे, तारीख नहीं बताएंगे’ भाजपा को घेरने के लिए उछाले गए इस नारे में आप खुद फंस बैठे हैं

‘मंदिर वहीँ बनाएंगे, तारीख नहीं बताएंगे.’ आपने जब भी ये नारा भाजपा को घेरने के लिए उछाला, आप खुद भाजपा के बिछाए जाल में घिरते चले गए. पहला तो इस नारे में यह स्वीकारोक्ति थी कि मस्जिद गिराना अब गौण…

जेएनयू के पूर्व छात्र अभिजीत बैनर्जी को अर्थशास्त्र में मिला नोबेल पुरस्कार

विजयशंकर सिंह अर्थशास्त्र में साल 2019 का नोबेल पुरस्कार अभिजीत बैनर्जी को मिला है। अभिजीत एमआईटी में प्रोफेसर हैं और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय जेएनयू के छात्र रह चुके हैं। उन्होंने कांग्रेस के लिये 2019 के चुनाव में NYAY न्याय योजना…

“हमने कभी नहीं कहा था कि हम सबको सरकारी नौकरी देंगे, हम ये अभी भी नहीं कह रहे हैं”- रविशंकर प्रसाद

रवीश कुमार “हमने कभी नहीं कहा था कि हम सबको सरकारी नौकरी देंगे। हम ये अभी भी नहीं कह रहे हैं।“- रविशंकर प्रसाद धीरज रखें। इस पक्ति को पढ़ते ही अधीर न हों। यह मेरे लेख के सबसे कम महत्वपूर्ण…

बैंक ऑफ महाराष्ट्र पर नज़र बनाए रखें, वह बड़े संकट से जूझ रहा है

गिरीश मालवीय बैंक ऑफ महाराष्ट्र पर नजर जमाए रखें। यह भी बड़े संकट से जूझ रहा है और यह संकट भी उसी कारण से आया है जिस कारण से PMC बैंक के खाता धारकों की जमापूंजी खतरे में आ गयी…

दुर्गा पूजा में राम की जयकार के क्या मायने हैं?

अपूर्वानंद विजयादशमी बीत रही है. बेटी ने खिड़कियां और दरवाज़े बंद करवा दिए हैं. बाहर पटाखों की आवाज़ें एक पर एक सवार खिड़कियों को हिला रही हैं. छत पर बैठा था लेकिन पटाखों के धुंए की वजह से नीचे आकर…

क्या क्रांतिकारियों या तथाकथित ‘आतंकवादियों’ की प्रेम कहानियां नहीं होतीं?

किसी फिल्म का ही एक डायलॉग है “आतंकवादियों की प्रेम कहानियां नहीं होतीं”. इस एक लाइन में ही दो विमर्श जन्म लेते हैं. इस सवाल के साथ कि पहले ये तय हो कि आतंकवादी कौन? भारत ने आज से करीब…