लोकवाणी

मुख़्तलिफ़ आवाज़, निगाह और विचार

रिपोर्ट

झारखंड के स्वतंत्र पत्रकार आनंद दत्ता से पुलिस ने की मारपीट

रुपेश कुमार सिंह झारखंड के स्वतंत्र पत्रकार आनंद दत्ता, 12 सितंबर की शाम जब अपनी पत्नी के साथ रांची के एक सब्जी मार्केट में सब्जी खरीदने गये थे, तो झारखंड पुलिस ने उनको पीटा और उनके साथ बहुत ही बदतमीजी…

नाकेबंदी, गिरफ्तारी और लाठीचार्ज के बावजूद डटे रहे हरियाणा के किसान

अजीत सिंह हरियाणा में किसान रैली को रोकने के लिए जगह-जगह बंद किए रास्ते, रैली से पहले ही कई किसान नेताओं की गिरफ्तारी, लेकिन पीछे नहीं हटे किसान केंद्र के तीन कृषि अध्यादेशों के खिलाफ हरियाणा के पिपली (कुरुक्षेत्र) में…

कंगना रनौत निरंकुश मर्दानगी का वीभत्स रूप प्रस्तुत कर रही हैं

शुभा कंगना रनौत के सन्दर्भ में महिला होने की दुहाई हास्यास्पद है. वे निरंकुश मर्दानगी का वीभत्स रूप प्रस्तुत कर रही हैं. बम्बई को पाक अधिकृत कशमीर कहना अपने दफ्तर को राममन्दिर और उस पर बाबर के हमले जैसे रूपक…

क्या आपको पता है कि सरकार 26 सरकारी कंपनिया बेचने जा रही है और बेरोजगारी की तो आप पूछिए मत!

सरकार 26 सरकारी कंपनिया बेचने जा रही है. जल्द ही इनकी नीलामी की जाएगी. हाल ही में वित्त मंत्री ने 23 कंपनियों के निजीकरण की घोषणा की थी. नवभारत टाइम्स अखबार ने खबर छापी है जिसमें कहा गया है कि…

बेटा-बेटी, जवांई, नाती क्या, एक कुनबा काम न आएगा..

वशीम अली माइकल जैक्सन 150 साल जीना चाहता था। किसी से साथ हाथ मिलाने से पहले दस्ताने पहनता था! लोगों के बीच में जाने से पहले मुंह पर मास्क लगाता था ! अपनी देखरेख करने के लिए उसने अपने घर…

बिल चुकाने के लिए पैसा नहीं बचा तो अस्पताल ने 80 वर्षीय मरीज बिस्तर से बांध दिया

बिल चुकाने के लिए पैसा नहीं बचा तो अस्पताल ने 80 वर्षीय मरीज बिस्तर से बांध दिया. इन्हें मध्य प्रदेश के शाजापुर सिटी अस्पताल में भर्ती कराया गया था. पांच दिन भर्ती रहे. परिजनों ने दो बार में 11 हजार…

नागरिक को अर्द्ध नागरिक में बदलता समय

चंदन श्रीवास्तव लॉकडाऊन के सवा दो माह गुजरने के बाद जब कोई सवाल ये पूछे तो कि देश ने क्या खोया-क्या पाया तो एक खस्ताहाल आम नागरिक का और क्या जवाब होगा भला सिवाय मी’र के इस शे’र के कि…

लॉकडाउन के दौरान बेरोजगार हुए 10 करोड़ लोगों को सरकार ने राम भरोसे छोड़ दिया

महामारी एक है। जर्मनी और अमरीका एक नहीं हैं। रोज़गार और बेरोज़गारी को लेकर दोनों की नीति अलग है। जर्मनी ने सारे नियोक्ताओं यानि कंपनियों दफ्तरों और दुकानों के मालिकों से कहा कि उनके पे-रोल में जितने भी लोग हैं,…

श्रमिक ट्रेनों में अब तक 80 लोगों की मौत, श्रमिक एक्सप्रेस के भूखे यात्रियों से लुटती दुकानों को देख घबराए वेंडर

श्रमिक ट्रेनों में अब तक 80 लोगों की जान जा चुकी है! -लल्लनटॉप, श्रमिक ट्रेनों में सफर करने वाले 80 मज़दूरों की अब तक जान जा चुकी है. 9 से 27 मई के बीच. ये जानकारी मिली है रेलवे प्रोटेक्शन…

गृह मंत्री जी, सरकार CAA पर एक इंच पीछे हटे भी कैसे? पीछे गड्ढे में अर्थव्यवस्था औंधे मुँह पड़ी है!

गुरदीप सप्पल गृह मंत्री ने कहा है कि सरकार CAA पर एक इंच भी पीछे नहीं हटेगी। कैसे हटे? क्योंकि पीछे एक बड़ा गड्ढा जो है, जिसमें अर्थव्यवस्था लुड़की हुई, औंधे मुँह पड़ी है। ज़रा देखें: GST का कलेक्शन ₹1.2…